Explore KVMT

All Dogri Sonnets

जिरढ़ा चसका

कदें मी पुम्बली प चढ़ने दा चसका चढ़ी जन्दा,
कदें थकेमां चढ़ने दा मिगी त्रोड़ी दिन्दा ऐ –

ते हिम्मत हारियै मन हत्थ-पैर छोड़ी दिन्दा ?
मिगी खड़ोतें दी चगाठें दै अन्दर मढ़ी जन्दा ;

रुन्हाका होइयै इच्छम झिक्की खट्टें दड़ी जन्दा,
मिरी कीती-कराई गी खिनें च रोढ़ी दिन्दा ऐ –

समें दा डर अजीब, रोमै-रोमै च बड़ी जन्दा,
ते मेरी मेदड़ी दी बुनतरें गी दर्होड़ी दिन्दा ऐ।

मगर एह् चसके दा गुण ऐः-मझाटै त्रोड़ें-दर्होड़ें दै-
मस्हांदा कद्द-बित्त लेकन अपना बीऽ बचान्दा ऐ,

दबोइयै हारें हेठ ते रेहियै बिच सौड़ें दै –
एह् अपनी पुम्बली चढ़ने दी जिरढ़ी लीह् बचान्दा ऐ,

”वियोगी“ तां हमेषां आखदा आया ऐ सारें गी,
”कदें नेईं हारदे जेह्ड़े कदें मन्नन निं हारें गी।“

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com