Explore KVMT

All Dogri Sonnets

मनै ते तनै दे सरबंध

एह् तेरे बु’ल्ल बी हिन्ने निहे किष बोलने तांईं –
बो मेरे कन्नें च पेई ऐ भिनक ओपरी एह्दी।

एह् तेरी नज़र बी उट्ठी निही कुआलने तांईं-
बो झाल पेई ऐ मना च बे-बुहासरी एह्दी।

कषेरू मेरी हस्ती दी ऐ, मेरी बहुमुखी रुच्ची-
बो एह्दै बावजूद तेरे पर मरकूज़ रौंह्दी ऐ।

तेरी मनषें दे गीह्टे एह् हमेषां लैंदी ऐ मुच्ची-
इसी बस तेरियें मनषें थमां तस्कीन थ्होंदी ऐ।

मिगी निं याद: कन्न-गोचर ऐ कथनी जां एह् मन-गोचर,
बो इ’न्नै रूहा गी ऐ कासमां कलबूत लाए दा-

चगिरद मेरी हस्ती दै ते बाह्में अपनियें अंदर-
कलावा घोटमां, अनटुट्ट ते मज़बूत लाए दा-

बो साढ़ी मनषें दी ऐ आखरी तकमील तद होनी
एह् मन-मलाटी, तन-मलाटी च तब्दील जद होनी

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com