Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अपनी जरूरत

एह् बिलकुल सच्च ऐ जे डोगरी दे पाठक गै हैन्नी,
ते चिरका, में इदी इस खामी मूजब झूरदा आयां,

प अज्ज लग्गा दा ऐ जे मिरा झूरा हा बे-मैह्नी:
फज़ूल झूरे दे छूरे नै चित्त छूरदा आयां!?

षायर लिखदे न दूएं तै-मेरी गल्त-फैह्मी ही-
समें दी रीसो-रीसी सिक्खे दा एह् भाव हा मेरा।

एह् मेरी खाम-ख्याली ही जां मेरी सोझ बैह्मी ही,-
प इस खिंझै नै हाल कीते दा खराब हा मेरा।

ते मेरे रोहा ते खिंझै दे पिच्छें असलियत एह् ही-
(में अपनी बोल्ली च लिखना हा ते लिखदा रेहा म्हेषां)

जे एह् क्हीकत ऐ पुषतैनी-कवि कदें बी लिखदे निं,-
कुसै दै बास्तै, लिखदे न ओह् अपने गितै म्हेषांः

लखूखा रंग भरियै सोचदे, (लफ्ज़ें च) मन-भाने-
पढ़ग कोई, तां सिर-मत्थै; पढ़ग नेईं, तां ओह् जानै!

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com