Explore KVMT

All Dogri Sonnets

मेरी गल्तियें दा कसूरबार

तूं जेल्लै मेरा खाता लिखने तै बौह्गा मिरे दाता,
तां भामें लिखेआं, ”जे इस बे-वकूफा नै उमर सारी,

(तूं लीकी ओड़ेआं मेरी खताएं नै मिरा खाता)
सवाए बे-वकूफियें दै किष बी कीती निं कारी।“

पर खाते च ब्यान मेरा लिखने तै दना-खारी,
जगह रक्खी करी मेरा ब्यान बी लिखी लैयां-

”में अपने होने दा कारण रेहा तुपदा उमर सारी,
ते उस खोजा मुजूं, उस्सै मुजूं इत्थें तगर आयां।

अगर एह् खोज नेईं होंदी तां में किष होर होना हा,
प मेरी खोज बी एह् मेरे होने मूजब होई ही,

में अपने होने दे हत्थें च इक निर्बल खलौना हा,
अगर में होंदा गै नेईं गल्ती बी होनी निं कोई ही।

ते मेरे होने दा ”निष्चत“ ऐ-जम्मेवार एं तूंऐं,
ते मेरी गल्तियें दा बी कसूरबार एं तूऐं।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com