Explore KVMT

All Dogri Sonnets

छे ज’मा इक – सत्त चीजां

घृणा करदा ऐ, छें चीजें कन्ने अल्ला-हू-अकबर,
ते सत्तें चीजें गी अल्ला-हू-अकबर पाप मनदा ऐ।

ते जेह्ड़े अनसुनी करदे न इस गल्ला गी बख़्तावर,
ओ उंदी बांगें ते दुआएं गी कदें निं सुनदा ऐ:-

घमंडी अक्खियां ; मसूमें दी रत्तू रंगोए हत्थ ;
झूठ बोलदियां जीभां ते षडजंतर रचांदे दिल ;

गवाहियां झूठियां देइयै, जो झूठै गी बनान सच्च ;
ओ डगरां फगड़ने आह्ले कुकर्म जिंदी ऐ मंज़ल ;

ते खीर ओ जिढ़े सदभाव निं, फुट्टां पुआंदे न।
रबेइये सत्त उप्परले उसी बिलकुल निं भांदे न।

जे परम मस्ती दै काबल एह्का मन बनाना ऐ
ते जीवन-कुंडै गी भरना ऐ फैल-सूफियें कन्ने,

ते असलै च तुसें अपना सुखी जीवन बनाना ऐ।
तां छिन्ना पाओ पक्का एह्की सत्तें बस्तुएं कन्ने।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com