Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अकाई

जदूं पीड़ें मुजूं रोंदे न साढ़े सोह्ल परमाणू,
तां चित्त दाह्ला होंदा ऐ ते रूह् दिक्क होंदी ऐ।

प राज़ सृष्टि एह् इक्क जे पनछानी लै माह्नू,
”सतह दै हेठ हर-इक चीज बिलकुल इक्क होंदी ऐ।“

तां उसगी परम-लटरमस्तिया नै जीना आई जन्दा:-
(कोई पारे दे दो ऐटम किसा चाल्ली घटाई लै

तां ओह्दै थाह्र उस मकदार दा गै सुन्ना आई जन्दा;
दऊं ऐटम बधाइयै जां इसी प्लेटीनम बनाई लै।)

सृष्टि च हर-इक चीजा दा आकार ऐ चेचा
प एह्दै बावजूद, इन्दा सार इक्क होंदा ऐ ;

ते हर-इक मज़ह्बा दा जि’यां के परचार ऐ चेचा,
सतह दै हेठ लेकन सब्बै इक्क-मिक्क होंदा ऐ।

खुषी दी खीरली हद्दा’र छम-छम अत्थरूं बगदे:
गमा दी सीमा उप्पर अक्खियें दै लाग्गै निं लगदे।।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com