Explore KVMT
Dogri Sonnets
Home  »  Dogri Sonnets

All Dogri Sonnets

“सानट” उप्पर सानट

सानट ते समाधी फुदकदी सोचा दी होंदी ऐ ,
खडेरी छोड़दी ऐ सोचा दी उटठी दी भौडा गी |

जड़ु ज़ज्बे दी धार साह लैने गी खडोदी ऐ ,
तदू एह नापदी ऐ अक्खरे नै साढ़ी सौड़ा गी |

खिनी बशालता गी लफ़्ज़े कन्ने नापी लैंदी ऐ ;
खिना गी थ’ेमये, कल्ला-मकुल्ला, बक्खरा करियै |

उदे अकार गी बदो-बदी एह छापी लैदी ऐ;
उसी दुए खिने शा खुसियेे ते ओपरा करियेे |

सानत आे बचित्तर भेस ऐ कवता दा; जो चेचा
खिना दी देहु ओहदा बराटी रूप दिंदा ऐ;

ख्याली गुडिडयें गी मारियेे सौ तुनके – ला पेचा
प ढेल तेज मांझे दी बी अल्लढ़ खूब दींदा ऐ |

लखन – रेखा च कल्ली सोचा गी एह बननी लैंदी ऐ ,
जे इसगी मैंनाे तां एह गल्ल माननी लैंदी ऐ |

– कुंवर वियोगी

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US
X