Verse 62-परमेश्वर – The Eternal

परमेश्वर है एक इकाई , न नारी न नर,
हर वास्तु में वास है उसका जानू ज़ोरावर |
रूप न उसका, न गुण-वृति ,सीमा है बे-हद ,
उसकी हद को ढूंड न मूर्ख बैठे-बिठाये घर ||