Verse 208-पूर्वज -Ancestors

कहे कहावत मात-पिता की करनी भुगतेय पुत्तर ,
लेकिन ऐसी चिंताओं से उठ जा तू ऊपर |
बुरा किया जो पुरखों ने, तू भोग ले उसका अपयश,
पर अच्छाई उनकी लेकर सजा ले पाना घर ||

Verse 183-महाकाव्य-Epic

सच्ची कथा नहीं रामायण सुनी थी मैंने ख़बर,
महाभारत भी अफ़्साना है कहते कई चतुर।
झूठी-सच्ची मैं न जानूं सुन्दर बहुत कथा,
इसी लिए चर्चित हैं दोनों आज सभी के घर ||