Verse 78- गुरुद्वारा-Gurudware

भाई बैठा शब्द गा रहा गुरूद्वारे अंदर,
दिव्य शांति पानी है तो मन में पूजा कर |
गुरुओं ने बलिदान दिए, निज रक्त से ये चिनवाए ,
नानक बैठे ध्यान लगाए, यह नानक का घर ||