Verse 141-झूठ – Lie

इतना झूठ तू बोल ना पंडित, ऐसे ढोंग ना कर,
लम्बी बात नहीं करता मैं, बचन मेरे लघुतर |
धिक् है, तू पलता है लेकर राजपूतों से दान,
दफ़्न जिन्होनें की बच्चियाँ खोद के कब्रें घर ||