Verse 154-अंटोनी और क्लियोपैट्रा-Antony and Cleopatra

क्लियोपेट्रा ने छाती से लगा लिया विषधर ,
अंटोनी ने घोंप लिया था  सीने में खंजर |
यह बलिदान मोहब्बत का क्यों नहीं सराहें लोग,
सोहनी और महिवाल के किस्से प्रचलित घर-घर ||