Explore KVMT

All Dogri Sonnets

जढ़ां

सुगंधी कलियें दी करदी नषेई् फुल्लें दी रंगत,
मना गी मादकी झूटे करान्दी रौंह्दी अनसम्भे।

सच्चे षायरी दे साधकें दे लफ़्जे़ं दी ताकत,
दिला इच खोह्लदी ऐ जि’यां चष्में, बौ’ल्लियां, बम्बे।

कली दा पर षलैपा दिक्खियै में सोचदा रौह्न्नां –
ऐ एह्दा सबनें षा अनमोल हिस्सा नजरी दै ओह्लै;

जिनें कली बनाई उन्दा अपना रूप केह् होना ?
जढ़ें गी दिक्खने ताईं – जढ़ें गी कियां कोई ठोलै ?

जढ़ें गी पुटदे गै फौरन कली मुरझाई जन्दी ऐ ;
एह् जि’यां लफ़्ज़ें दे मैह्ने गी कोई दिक्खी नेईं सकदा;

ते सोचां अक्खरें परोना कोई सिक्खी नेईं सकदा,
प’ सब पचीदगी प्यारा नै समझा आई जन्दी ऐ।

कली गी दिक्खियै जो बी जढ़ें गी दाद दिंदा ऐ,
ओ राजी-बाजी, सग्गोसार ते सुरगी बषिन्दा ऐ।

Copyright Kvmtrust.Com