Explore KVMT

All Dogri Sonnets

तेरी मरजी दा गुलाम

में पुतला मोमा दा तेरे गितै, तेरे लेई बनेआ,
मीं, (जेल्लै मन करै तेरा)-तूं भन्नी लै त्रोड़ी लै;

जां सेक हिरखा दा देइयै, (फ्ही जेल्लै मन करै तेरा,
ते जिद्धर जी करै, जि’यां बी जी चांह्दा ऐ,) मोड़ी लै।

बगैर हिरखा दे सेका दै में आं षीषे दै आंह्गर
बज़िद्द ते खढ़ंग मेरे आकारा दी हर फींगर।

प हिरख थ्होंदे गै बगैर कीते डाम जां हीला,
फटक्क पिरघली जन्नां बनी जन्नां में लचकीला।

एह् मेरे होने दी बिधी दा ऐसा गै सुआतम ऐ,
जे तेरी मरजी दै अनुसार बदलोंदे न गुण मेरे।

ते तेरी मरजी दा गुलाम मेरा सारा इच्छम ऐ;
हमेषां तेरे गै इषारे प नचदे न कण मेरे।

खलार फींगरां, मरज़ी ऐ तां, भन्नी लै त्रोड़ी लै,
फ्ही जेकर जी करै मीं घालियै मुड़ियै तूं जोड़ी लै।

Copyright Kvmtrust.Com