Explore KVMT

All Dogri Sonnets

सादक – ब्यानी

तुसाढ़ी षान-षौकत ही ते रोह्ब-दाब हा सारै,
ते सारे लाट्टीखान तुंदे दबके हेठ रौंह्दे हे।

तुसाढ़े खानदाना च अगर कोई छिक्क बी मारै,
तां सारे तीसमार-खान बी लमलेट होंदे हे।

न्यायाधीष ते कृपालू हा जाह्री चलन तुंदा,
बो तुंदी, दुम्ब-ल्हाऊ नौकरें कन्नै गै बनतर ही।

बजुर्ग तुंदे जाबर हे, ते बाजब राज हा उंदा –
जां साढ़ें पुरखें दी दबकोई दी हस्ती गै कमतर ही?

एह् जो बी हा, पुरानी गल्ल ऐ, एह् हून नेईं चलनीः
तुसाढ़े राज्जें, ताज्जें कन्नै साढ़े खौफ उड्डी गे।

पुराने दकियानूसी तल्लकें दी दाल नेईं गलनी,
जमान्ने जीझूरियें दे सारे उड्डी-फुड्डी गे।

भुलाओ नेईं एह् राजबाड़ेओ सदी ऐ एह् बीह्मीं,
घमंडा गी मिलग घमंड गै ते ल्हीमी गी ल्हीमी

Copyright Kvmtrust.Com