Explore KVMT

All Dogri Sonnets

झूरे

अगर में किष ध्याड़े, अपने पैदा होने षा पैह्लें –
जां चार पल गै पैह्लें पैदा होंदा, मन हुमकदा ऐ?

तां कुषबा रंग मेरे होंदे होर चोखे-चमकीले –
ते मन मसूरतां, नखिद्धियां दिन-रात करदा ऐ।

अगर में अपनी हर कीती गी अनकीती करी सकदा?
ते सब अनकीतियें, करने दै काबल होई जंदा में?

जां अपनी कथनियें ते करनियें गी बिस्सरी सकदा?
तां कुषबा अपने इच्छमा दा कायल होई सकदा में?

अगर अनलिखियें चिट्ठियें गी गै, लिखी लेदा में होंदा?
जां ठीक बक्ता उप्पर, ठीक में गलाई दी होंदी?

म्हेषां सोचदा रौह्न्नां जे एह् होंदा तां केह् होंदा?
कुषबा पत-झड़ै दै थाह्र ब्हार आई दी होंदी?

मेरी पिछलियें बत्तें प फ्ही चलने दी हीखी ऐ,
मगर अनहोनी एह् होंदी कदें कुसै निं दिक्खी ऐ।

Copyright Kvmtrust.Com