Explore KVMT

All Dogri Sonnets

मौत

बे-स्हाबा दबदबा ऐ तेरा लोकें दे दिलें उप्पर,
ओह् मौते तूं भयानक एं, अचानक एं, अनुपम एं!

राज चलदा ऐ तेरा मकम्मल मैह्फलें उप्पर;
मनुक्खी चेतना उप्पर बी वाहिद तूंऐं हाकम एं।

बगदी हस्तियें गी फौरन रोकी लैन्नी एं मौते,
ते कैह्र ढान्नी एं बे-रैह्मी कन्ने काफलें उप्पर।

ओह् टूनेहारिये, बे-तरसिये, कुलैह्निये मौते, –
एह् अ’न्ना राज नेइयों चलना तेरा, म्हातड़ें उप्पर।

अति बलवान एं तूं लेकन क्हीकत एह् निं बिस्सरेआं,
जे तेरा राज निं चलना मना दे मामलें उप्पर।

दखल-अंदाज़िया दा तूं कदें बी जतन निं करेआं
मना दे मामलें दी क्हूमत चलदी ऐ मनें उप्पर।

तिरी डुआठना गी पार जेह्ड़ा बी करी जंदा,
उदै तै तूं मरी जन्नीं ओह् तेरे तै मरी जंदा।

Copyright Kvmtrust.Com