Explore KVMT

All Dogri Sonnets

किष दाने पुराने हैन

खबर ऐ- (एह् छड़ी अफवाह् ऐ जां सच्च ऐ बिलकुल,
इदा सबूत हैन्नी पर छपी दी ऐ खबारें च।)

चीन देसा दा तकलीमकान ऐ जिढ़ा मरूथल,-
उदे च दफन मुरदें दियें कबरें दी कतारें च,-

खुदाई करने आह्लें गी मिले ‘जौआ’ दे किष दाने।
एह् सैंसदानें राहे जद सधारण मित्तिया अंदर।

तां कंजकें राहें राही साखा आंह्गर पीले, मन-भाने,
इनें दानें पुरानें दे सुहाने फुट्टे हे औंकर।

अज़्मत, ईन निं बाकी बचे दे डुग्गर जाती च,-
प किष दाने पुराने हैनः- डीडो, जित्तो ते रणपत।

इनेंगी राहियै, हीन डोगरा जाती दी छाती च,-
उगांदे की निं अस अपनी कदीमी ईन ते अज़्मत।

अगर सदियां पराने ‘जौ’ दे औंकर फुट्टी सकदे न?
तां साढ़े ज़ैह्नी सकते बी जकीनन त्रुट्टी सकदे न।

Copyright Kvmtrust.Com