Explore KVMT

All Dogri Sonnets

हिरख ते कम्म

मिगी हा हिरख कम्मै नै जां हिरख कम्म हा केवल,
अजें तक आई निं सकेआ एह् मेरी समझा च पूरा।

कदें हिरखै नै कीता मेरे सारे कम्में गी अप्फल,
कदें ऐ बख्षेआ अमुक्क कम्मै, हिरखै गी झूरा।

मीं इस अधूरेपन नै दित्ती ऐ असीम खिनचित्ती,
ते मेरी रूहा दै उप्पर ऐ कीता कासमां गलबा।

नेक किसमतै नै मीं अति मसरूफियत दित्ती
ते मिक्की सोच औंदी ऐ – मना इस्सै करी कुषबा।

अजें तक अंतरातमा दै सम्मन टालदा आयां,
ते एह्दी दालता च अपनी होन दित्ती निं पेषी।

कैह्ली जिंदगी गी अद्ध-ढाटा पुज्जियै रोकां-
ते कैह्ली परखां कम्में दी ते हिरखै दी कमी-बेषी।

मिगी नेईं बैह्ल एह् करने दी अपनी मौती दै तगरा,
ते लोड़ रौह्नी निं करने दी किष बी मौती दे मगरा।

Copyright Kvmtrust.Com