Explore KVMT

All Dogri Sonnets

इत्तफाकी दुष्मन

ओह् लगदा ल्हीम ते खुषबाष ते सोह्ना ते चंगा हा;
अगर ओह्दे नै मेरी झत्त होंदी मैह्फला अंदर,

(मुसलमाने नै ओल्लै हिंदुऐं दा बाह्मी पंगा हा)-
तां कुषबा में उसी थाह्रा देई दिंदा दिला अंदर!!

अऊं बेकार हा ते भरथी होआ हा में इस मूजब,
जे चार पैसे-धेले जोड़ियै जमीन लेई लैग्गा !!

ते कुषबा उब्बी भरथी होआ हा फौजा च जिस मूजब,
उदी मरजी ही, ”पैसे जोड़ियै नकाह् करी लैग्गा!

मखालफ फौजें इच्च भरथी होइयै अस मिले जेल्लै-
नषाना लैत्ता ते दौनें दबाए घोड़े रफलें दे

उदे गित्तै हा कप्फन आंदा ओदे साथियें ओल्लै,
मिरे चित्ता च अंकुर फुट्टे हे लक्खें खतोलें दे!!

अगर ओह्दे नै मेरी झत्त होंदी ऐमनी बेल्लै,
तां कुषबा कोल मेरै होंदा, निं होंदा, जिमीं थल्लै।

Copyright Kvmtrust.Com