Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अम्बां-रां दे टिब्बे

मुसलमानें, ईसाइयें, ज्हूदियें दे धर्म-पितामांह्,-
इब्राहीम षा बी पैह्लें षा, बीह्मीं सदी तगरा,-

हमूर-दाबी, ईसा, सालमन-जित्थें तगर दिक्खां;
अलोप माज़ी षा-उन्नी सौ बत्ती ईसबी तगरा:-

अरब दे मारूथल दे बासियें दी ही बुरी हालत,
ते हर इक पारखी निरपक्ख गी एह् साफ लभदी ऐः

छड़ी भुखमंगी ते ज़िल्लत, छड़ी मजबूरी ते ज्हालत,
तरीखा दे सफें दै बिच्च बे-लिहाफ लभदी ऐ।

अबो उन्नी सौ बत्ती ईसबी च लेतरा हेठा,-
ज़खीरे तुप्पियै तेला दे माला-माल हे होए,

ते अपनी ज़िल्लतें ते ज्हालतें गी रक्खियै भेठा-
बषिंदे अरब दे एह् खुर्रम ते खुषहाल हे होए।

उनें गी दिक्खियै में सोचदा रौह्न्नां एह् हर बेल्लै-
”अनैंत्त दौलतां न अम्बां-रां दे टिब्बें दै थल्लै?“

Copyright Kvmtrust.Com