Explore KVMT

All Dogri Sonnets

दुआऽ

दुआऽ करना, मिगी परमातमा अन-थक्क कान्नी दे,
ते मेरी औंगलें गी – फगड़ने दी कान्नी, दे ताकत,

ते मेरी बाणी गी अन-झक्क ते सादक ब्यानी दे,
ते मेरी सोचें गी दे तूं बरीक-बीनी दी बरकत।

मिगी दौलत, मिगी इज़्ज़त, मिगी षोह्रत निं चाही दी
मिगी नां चैन गै चाही दा, नां संदोख नां फुर्सत।

बनी जा कान्नी, भामें एह् बजह मेरी तबाही दी,
बर्हाइयै मानसूनी लफ्ज़ें दी बरखा बिजन मोह्लत।

अगर आखें तां लिखियै देई दिन्नां में दुआऽ अपनी,
ते सादक लफ्ज़ें नै अपनी दुआऊ गी घड़ी दिन्नां,

अगर है लोड़ तां लफ्ज़ें च पाइयै में वफ़ा अपनी,
अमुल्ले मैह्नें दे फ्रेमा च इसगी मढ़ी दिन्नां:-

”जदूं तक मेरे साहें दी नेईं पूरी गिनतरी मुक्कै,
अदूं तक मेरे लफ्ज़ें दा चलैंत्त चो नेईं सुक्कै।“

Copyright Kvmtrust.Com