Explore KVMT

All Dogri Sonnets

घरेलू मसले

में इक दिन दफ्तरा, तनखाह् लेइयै, कारा च बेहियै,
गलाया षोफरा गी जेल्लै, चल चलचै घरा पासै।

ध्यान मेरा उड्डी आ ख्याली फंघड़ू लेइयै ;
मीं लब्भा आदमी इक गामज़न अपनी गुफा पासै:-

”उदा जुस्सा हठीला हा मगर चित्ता च अलखत ही,
ओ दिन-भर खज्जल होने बाद घर बापस हा जा करदा;

कोई, घर लेने तै षकार नेईं मिलेआ, ते दिक्कत ही,
जे अपनी मांसाहारी त्रीमता तांईं ओ क्या करदा?“

मिगी बी डर हा जे मेरी त्रीमत केह् मिगी बोलग?
उदी तलबें गित्तै तनखाह् एह् मेरी नकाफी ऐ।

खरै म्हेषां दै आंह्गर सूंक सुट्टियै कुफर तोलग,
”नखट्टू खसमें षा चाएं दी नेईं होंदी तलाफी ऐ।“

”करोड़ां साल गुज़रे, पर नियम पिछले नेईं बदले:
सब किष बदलेआ लेकन घरेलू मसले नेईं बदले;

Copyright Kvmtrust.Com