Explore KVMT

All Dogri Sonnets

ओवर – लोडिड गड्डी

खुदारा गड्डी दुनियां दी ऐ अ’न्नै-बाह् चलै करदी;
दना’क रोकेआं इसगी जे में थल्लै उतरना ऐ।

लुकाई धिक्कम-धिक्का इक्क-दूए पर चढ़ै करदी,
में इन्नी ओवर-लोडिड गड्डी पर सफर निं करना ऐ।

कोई मुषकां डोआऽ करदा, कोई दूऐं गी घुरका दा;
कोई खीह्से च पाइयै हत्थ ऐ नलें गी खुरका दा।

कोई कल्ली कुड़ी दे, भीड़ै ब्हान्नै मम्मे तोसै दा,
ते दोष भीड़ै गी देई करी, भीड़ै गी कोसै दा।

एह् गड्डी अपनी षिड़का पर फराटे भरदी जा करदी;
अराजक सुआरथें दी गड्डी अंदर अफरा-तफरी ऐ;

लुकाई ईन-हीन ल्हीमी नै सब जरदी जा करदी,
की जे सत्ता बी लुकाई दी होई दी कसरी ऐ।

खुदारा हून में इस गड्डी, च सफर नेईं करना ऐ;
दना’क रोक इस दुनियां गी में थल्लै उतरना ऐ।

Copyright Kvmtrust.Com