Explore KVMT

All Dogri Sonnets

इष्कै दा सुआतम

चंगारी जेह्कड़े चित्तें च इष्का दी सि’ली जंदी,
उंदी जीभें दे उप्पर जमदे न षिकवे ते ताह्ने गै।

नज़र जद गल्ती नै उंदी ऐ आपूं-चें मिली जंदी,
तां चष्मे तोह्मतें दे फुट्टी पौंदे न धङाणै गै।

बड़ी ढिकी-ढिकी दी होंदी ऐ इष्का दी भरमाली,
बड़े समल्होए दा ते सम्मना एह्दा सभाह् होंदा।

मुआफ भुल्ल-चुक्क प्रेमियें च होंदी जिस चाल्ली
उसगी दिक्खियै चबात यारो, बे-पनाह् होंदा।

एह् इष्का दा सुआतम ऐ, दिला दै अंदर औंदे लै,
बिजन बुआज, छुपले-पैरें, डोल आई जंदा ऐ।

ओह् दुष्ट बनदा ऐ इ’यै दिला षा बाह्र जंदे लै,
दुआर भेड़ियै, लोहे दे क़ब्जे लाई जंदा ऐ।

मीं तां गै, जीभें दी गलानियें नै नेह् हैन्नी सो,
ते तां गै अक्खीं दे इषारे पर संदेह् हैन्नी सो

Copyright Kvmtrust.Com