Explore KVMT

All Dogri Sonnets

कोषष

षिकल-दपैह्र ही ते भीड़ ही बस्सें दे अड्डे पर,
ग्रांऽ दी बस्सा दे जाने दा टाइम होई गेदा हा।

‘वियोगी’ चुक्कियै, अपनी कुड़ी गी, अपने मूंढे पर,
ओ बस्स फगड़ने तांईं दबा-सट्ट खिट्टें पेदा हा।

जदूं कोई अद्धी-क फर्लांग छिंडा बाकी हा हाल्ली,
तदूं बस्सा नै हा भौम्पू बजाया ते चली पेई।

‘वियोगी’ दी ञ्यानी, लाडली बच्ची फिरी बोल्ली,
”केह् फायदा हून बापू द्रौड़ने दा बस्स ते गेई?“

”वियोगी“ नै गड़ाका मारेआ पर द्रौड़ निं टोकी:
कुड़ी गी आखेआ, ”में इक्क बी मौका खंझाना नेईं,

होई सकदा कुसै कारण ड्राइवर बस्स लै रोकी
अगर ऐसा होऐ तां मौका में एह्का गुआना नेईं।

खंझाई ओड़गा में द्रौड़दे बी षायद बस्सा गी,
प कोई आखी नेईं सकदा जे में कोषष निही कीती।

Copyright Kvmtrust.Com