Explore KVMT

All Dogri Sonnets

सांभै षा बड्डी अग्ग

मिरा ख्याल हा जे इक्कियें साल्लें दे बकफ़े च,
अंगारा इष्कै दा मकी-मकी हिसली गेआ होना?

मिरे बग्गें दे ठंडे-ठार ते बरफानी तोदे च,
इदा बजूद हिसली-बिसलियै रली गेआ होना?

प कल्ल इक्कियें साल्लें परैंत्त दिक्खियै तुक्की,
फटक्क मेरे जज़्बें दी बंगेर भड़की उट्ठी ही।

ते जि’यां फगड़दी ऐ अग्ग, झट्ट लक्कड़ी सुक्की,
एह् मेरी रूह् तेरी गरमियै नै फूकी सुट्टी ही।

मिगी खदषा होआ, इष्कै दे उच्चे लोरे दिक्खियै:
फकोई जानी ऐ तेरी घ्रिस्ती एह्की अग्गा च।

तूं जेह्ड़ी जाच जीने दी बगैर मेरै सिक्खी ऐ:
सुआह् होग मेरे इष्कै दी आवेगी अग्गा च।

एह् अग्ग मीं सेही होई ही मेरी सांभै षा बड्डी,
में तांहियै दिक्खियै, पनछान तेरै कन्ने निं कड्ढी।

Copyright Kvmtrust.Com