Explore KVMT

All Dogri Sonnets

रामनाथ षास्त्री गी सम्बोधत

नलें इच जोर हा ते रूहा इच किन्द ही पुट्ठी,
जदूं पीड़ें फड़ी लैत्ता ते बे-हद लागरी दित्ती;

मिगी गरसाल कीता, गुड्डेआ, उमंग बी लुट्ट ;
निरन्तर मेरै कन्ने जांगली जोराबरी कीती।

में भामें हारेआ लेकन कदें में हार निं मन्नी
ते अपनी हारें दी इट्टें नै ही पौड़ी बनाई में ;

में जिसलै डिग्गेआ तां हत्था बिच्च आई ही बन्नी,
जेदे नै लमकियै हर तांह्ग ही टीसी चढ़ाई में।

गमें गी चूसेआ हा ते दुखें दी तपष लैती ही
प’ जेह्ड़ी सेध फगड़ी ही ओदे षा बक्खी निं होआ।

तुसें गी मन्नना पौना में जेह्ड़ी षपत लैती ही ;
(तुसें गी टेकियै मत्था, सुरें दा बीऽ हा बोया)

ओ षपत पूरी कीती ऐ में रेहियै बखले षैह्रें च
ते लेइयै अज्ज आयां, में नतीजा, तुन्दे पैरें च।

Copyright Kvmtrust.Com