Explore KVMT

All Dogri Sonnets

ओसर कौम

बरीकबीनी नै तरीखै दा मुताला कीता तां:
दना-क बाकफी मीं अग्गै-पिच्छैं नै तदूं होई:

जदूं षा डोगरा करदार होआ हीन ते नीमा:
रसम दुख़्तर-कुषी दी एस कौमा च षुरू होई ?

बड़ी मुद्दत थमां चाह्न्नां इलाज, इस अलालत दा,
बड़े हरबें दा इस्तेमाल कीता ऐ इदे तांईं।

मगर इलाज नेईं मिलेआ मिगी एह्की ज़लालत दा ;
अनैंत्त ऊरमा अजें तगर झल्ली जिदे तांईं।

में खीर पुज्जेआं, मजबूर होइयै, इस नतीजे पर,
जे सारे डोगरे मरदें गी में खस्सी करी ओड़ां।

ज़ैह्नी तौरा पर, पैह्ले गै जेह्ड़ी कौम ऐ ओसर,
उसी ओसर षरीरी तौरा उप्पर बी करी ओड़ां।

करां इलाज इस कौमै दा करियै मरदें गी ओसर,
करी ओड़ां नकारे बैंह्तरें गी कारी दे खच्चर।

Copyright Kvmtrust.Com