Explore KVMT

All Dogri Sonnets

नज़रें षा ओह्लै जढ़ां

मन्हासें दे घरै आह्ली, मरूसी बाड़ी दै लाग्गै,
मठोइयै, झौंगरी आया हा जेल्लै बूह्टा अम्बा दा,

तां उंदी बाड़ी अंदर मैंह्दिया दी आड़ी दै लाग्गै,
खलार पांदा हा बेल्लै-कबेल्लै, बूह्टा अम्बा दा।

कुड़ी बड्डी, मन्हासें दी, जदूं जुआंटड़ी होई,
तदूं उंदे घरै अ’ल्ल, अम्बै आंह्गर, में बधन लगेआ।

ते रोज-रोज मेरी आतमा इष्कै नै झनकोई:
ते मेरा बूर, उंदे सुथरे बेह्ड़े च किरन लगेआ।

उनें, मैंह्दी दी आड़ी आह्ली, बाड़ी दी सफाई तै,
हा कप्पी ओड़ेआ मुंढा थमां अम्बै दे बूह्टे गी ;

ते अपनी मान-मर्यादा ते कुड़ी दी भलाई तै:
मनाही कीती ही उसी मिरे नै मिलने-जुलने दी।

मगर मन्हासें दी बाड़ी च, उंदी नज़रें षा ओह्ल्लै:
जढ़ां न अम्बै दियां फैला करदियां, जिमीं थल्लै !!!

Copyright Kvmtrust.Com