Explore KVMT

All Dogri Sonnets

नरेन्द्र खजूरिया

नरेन्द्र! साढ़ी किसमत गै मोई किसमत-जली निकली,
जदूं तूं डोगरी गी जीनियस दा दित्ता लषकारा।

तेरी चिन्ता-भरोची कान्नी ही जिसलै बली निकली
तां तुक्की, ईष्वर नै चुक्की लैता, साढ़े बषकारा।

मसाह्रे तेरे लफ्ज़ें दे अजें तिक्कर जला करदे,
मगर बालन तेरी फिकरा दा इन्दे कोल हैन्नी सो,

ना लेखक गै लिखा करदे ना पाठक उम्बला करदे ;
तेरी सोचें दी बलदी दीह्नियें दी र्होल हैन्नी सो,

रंडोई डोगरी तेरै मुजूं, ते सोग निं छोड़ै,
ते मैली गिद्दी लाइयै गैह्नेहीन, बुच्ची-बुच्ची ऐ।

इसी सजौटी बाना लुआइयै कोई बरी ओड़ै –
ते एह्की ‘बिधवा’ कन्ने मी नरेन्द्र बौह्त रुची ऐ।

अजाज़त जे मिलै तेरी तां इसगी में ब्याही लैं।
ते रसमां त्रोड़ियै इसगी नमीं लाड़ी बनाई लैं।

Copyright Kvmtrust.Com