Explore KVMT

All Dogri Sonnets

मेरा राखा मन

मयूसी नै मनै अन्दर अति हुल्लड़ हा पाए दा,
ते पीड़ अक्खियें दी पुतलियें चा झांका करदी ही –

ते हुट्टन डेह्लें उप्पर लालमा बनियै हा छाए दा,
ते मेरी रत्तू इच मारू, जान-लेवा सरदी ही।

समें दे घैंको-रौले नै हे लग्गे कन्नें च झप्पे,
पपोटे फड़फड़ा करदे हे हंजू रोकने मूजब।

मना नै अपने-आपा गी तदूं हा सांभेआ आपे;
बड़े ठंडे तरीके नै मयूसी पर होआ गालब –

मेरी मेदें दे हिज्जे पीड़ें कोला ठीक करवाए –
ते सोचां गब्भने ताईं, पीड़ें नै मिथुन कीता;

ख्याल रंजषें दे गरड़जालें इच्चा छुड़काए,
ते रोन्दू जिन्दड़ी गी स्हाई लैने दा जतन कीता।

मजूद रातीं अन्दर बी कली बडले दी होन्दी ऐ,
ते अ’न्नी अक्खियें गी चाह् होए तां लोऽ थ्होन्दी ऐ।

Copyright Kvmtrust.Com