Explore KVMT

All Dogri Sonnets

बे-चैन रूह्

भ्रवा, रूहा दी बे-चैनी दा ठकाना नेईं होन्दा:-
एह् इक्क चीज मिलदे गै दूई दा मोह् करदी ऐ।

जे आखो, चंगा इन्ना जादै मोह् लाना नेईं होन्दा,
तां नजरां फेरी लैन्दी ते नकारा रोह् करदी ऐ।

इसी थ्होई दी चीजा दी कदर करनी नेईं औन्दी,
दुरेडी सैलतन इसगी मती मन-भावनी लगदी।

ते हामी अपने भागें दी इसी भरनी नेईं औन्दी,
ते सूरत राम आंह्गर दोस्तें दी रावनी लगदी।

चरास्सी-लक्ख जूनां भुगतियै माह्नू च औन्दी ऐ,
मगर रूहा दी अनमुक्की परेषानी नेईं जन्दी।

जतन अऊं बे-ब्हाऽ करनां बजह गी जानने गित्तै,
बजह रूहा दी बे-चैनी दी पर जानी नेईं जन्दी।

बिना समझे दे थोड़ें गी एह् पूरा करना चाह्न्दी ऐ,
गवा षा खिंडे दे बच्छे दै आंह्गर फ्ही रम्हांदी ऐ।

Copyright Kvmtrust.Com