Explore KVMT

All Dogri Sonnets

धुखदे जज़्बे

भखे दा जिस्म, धुखदी रूह्, तपे दा जी, चपे दा मन,
कोई रस्ता नेईं इन्दे षा बचियै निकलने आह्ला।

नेही पलचोई दी, पचीदा मेरी होई ऐ उलझन,
के दीया मेरी सुज्झा-बुज्झा दा ऐ हिसलने आह्ला।

कोई समझाओ केह् समझां? समझ आखै नेईं लगदी,
मेरी बुआजा उप्पर कम्मनी ऐ मूक छाई दी।

एह् मेरी जीभ बी मी, ऐन – मौके उप्पर ऐ ठगदी
में जेल्लै बोलनां तां बोलदी ऐ थत्थोपाई दी।

कोई समझाओ कैह्ली लोकी पुट्ठे मैह्ने कढदी ऐ,
ते साढ़ी अनगलाई गल्लें दी कनटैह्, की रखदी।

जे लाड लाओ तां धङाणै मुकती भूऐ चढ़दी ऐ,
प मासा बे-रुखी दस्सो तां आई जन्दी ऐ बिन-सद्दी।

की लोकी जाबरें गी करदी ऐ झुकियै नमस्कारां?
की मैह्रम हिरखा दै बदलै, सगातां दिन्दे न मारां।

Copyright Kvmtrust.Com