Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अपील

मना नै तंग पेइयै मुषकलें दी छैनियें कोला,
मिरी बे-चैन रूहा सामनै अपील कीती ही,

”सन्दोख चंगा होन्दा भोलिये बे-चैनियें कोला।“
अति मसकीन लैह्जे नै उसी दलील दित्ती ही।

बड़ी गै ल्हीमी कन्ने बोल्लेआ मन, ”प्यारिये रूहे,
सन्दोख करन निं दिन्दी मिगी में केह् गुनाह् कीता।

मजूदा मामलें च आननीं तूं मामले दूए।
एह् आदत माड़ी ऐ तेरी।“ मना नै एह सुझाऽ दित्ता।

क्यास आया रूहा गी मगर ओ खिंझी ही थोढ़ी,
मना दे सुआरथा उप्पर, उदे हेजलपुने उप्पर

ते उसनै सोचेआ आदि-युगा कोला अजें तोड़ी,
एह् रूह रुलदी आई ऐ मना दी बुस्सता खातर।

तां उन्नै अनसुना कीता मना दी हर दलीला गी,
ते फौरन रद्द कीता झक्के बिन ओह्दी अपीला गी।

Copyright Kvmtrust.Com