Explore KVMT

All Dogri Sonnets

केह्रि सिंह ‘मधुकर’

स्यानें दे समूहें इच, कट्ठें च, मुषायरें च,
बिजन दरेग मन्ना नां जे तेरी धाक ही जम्मी।

तुगी आपूं गलांदे हे तदूं सारे गै, षायरें च ;
बड़ा मगालता खादा हा सारें, खाई गेआ अ’म्मी।

तुगी में गौरा नै पढ़ेआ तां मिक्की एह् पता लग्गा,
जे भामें तेरे बोल मिट्ठे हे ते जज़्बे सादक हे:-

असें गी असल च तेरा अस्तित्व एह् खरा लग्गा ;
तेरे गीतें दे नेईं, अस तेरी बोल्ली दे आषक हे।

तेरी खड़मस्ती प्यारी ऐ: तेरा रिहाऽ चंगा ऐ,
तेरी नज़्में इच्च म्हत्तवी खुंधक निजो ”मधुकर“

प सुनने आह्लें गी मोही लैने आह्ला, तेरा संघा ऐ,
बो बिच्च जज़्बें दी किलकारदी अबरक निजो ”मधुकर“

बुआज मिट्ठी ते मनमोह् ते बेबाक ऐ तेरी,
बो मंझ माज़ी ते भविक्ख दै गै धाक ऐ तेरी।

Copyright Kvmtrust.Com