Explore KVMT

All Dogri Sonnets

दत्तू

तेरा इक्क गीत केवल, डोगरी भाषा गी थ्होए दा,
ओ गासा इच सोह्ना, कल्ला-कल्ला तारा सेही होंदा।

ओदी हर पंकती इच ऐ भरे दा दरद सोहे दा:
क जि’यां ‘किल्लियें बतना’ नमाना छोड़ना पौंदा।

मिगी दस्स देवी दित्ते – केह् होआ बाकी दे गीतें गी?
उनें गी सिनका नै खादा जां आपें तूं मस्हाए हे?

गमें षा खिंझियै तूं दंड दित्ता झूठी प्रीतें गी
ते काकल जानियै तूं भड़कदी अग्गा च पाए हे ?

जढ़े बरफानी तोदे दा कनारा इन्ना सोह्ना ऐ ;-
नज़र षा दूर ऐ लेकन, में लाना लाई निं सकना।

तेरी नज़्में च किन्ना रूप, किन्ना लोच होना ऐ ;
मिगी थ्होइयां निं भाएं, में उनें गी चाही ते सकना।

‘वियोगी’ चर्ण-कमलें अपना मत्था धरन आया ऐ।
कवि बनने दा षौंकी, डोगरी अम्मां दा जाया ऐ।

Copyright Kvmtrust.Com