Explore KVMT

All Dogri Sonnets

खीरली हीखी

एह् मेरा बैह्म हा जे बिजन तेरै अ’म्मी जी लैग्गा,
सरोत तूं ही मेरी जिन्दगी दे सुआसा – सुआसा दा।

में गल्त सोचेआ हा जिन्दगी पूरी करी लैग्गा,
मिगी अंदाज़ा हैन्नी हा ज़रा बी अपनी प्यासा दा।

(मिगी हून चुक्की लै परमातमा तूं पत्तरा आंह्गर,
नितां में जिन्दु दे कंडे’र जखमी होई जाना ई ;

मरूस्थल दे भखे दे ते निरन्तर लेत्तरा आंह्गर,
मेरे जीन्दे खिनें भखना ते सगमी होई जाना ई।)

तेरे जाने परैंत्त जीन मिक्की ओपरा लगदा;
मिगी लगदा ऐ चंगा तेरे चेतें च भसम होना।

ते हून पैह्लें कोला बी, मरी जाना खरा लगदा,
नचूक रातीं लै सुत्ते दे बिन-पीड़ा खतम होना।

अगर एह् होई सकदा ऐ तां पैर मोड़ी लै जिन्दे,
ते नाता मेरै कन्ने फ्ही पुराना जोड़ी लै जिन्दे।

Copyright Kvmtrust.Com