Explore KVMT

All Dogri Sonnets

दपासे ख्याल

तेरी गलियें गी अज्ज४ छोड़दे होई में एह् सोचां,
में ‘गौर’’ छोड़ेआ हा, चाऽ कन्ने इत्थें आया हा !

इनें बाह्रें ब’रें दी कालखा गी कि’यां में पोचां?
इनें मी हर घड़ी हा फूकेआ, कन्ने जलाया हा:

मेरे सुखनें दी लोथें दे पेदे ढेर न किन्ने,
तेरी गलियें दे मोड़ै पर, त्रुट्टे-भज्जे खोलें च।

हे तेरे मन्दरें दी घैंटियें च बे-थ’वे छिन्ने,
जिनें मेरे बचारे गीत खट्टे अपने रौलें च।

मिगी पिछले दिनें दी मौती पर रोना ऐ आवा दा,
मगर अगले दिनें दी तांह्ग बी ऐ खिचदी जा करदी।

तुगी में छोड़ने दा अज्ज भामें कीता ऐ जिगरा,
मगर एह् रूह् मेरी पिच्छें-पिच्छें दिखदी जा करदी।

में हीखी आन्दी ही किन्नी? नमोषी किन्नी लेई चलेआं?
तुगी में छोड़ी सकना पर बसारी सकदा निं भलेआं।

Copyright Kvmtrust.Com