Explore KVMT

All Dogri Sonnets

मसरूफियत

अऊं मसरूफियत मूजब रुकी सकेआ निं मौती तै।
मिगी मिलने गित्तै तां मौत आपें गै चली आई।

चिरा दे बलगदे किष आरजूमन्दें नै निबटी लैं ;
उसी में दिक्खियै तां फूढ़ी ओदी बक्खी सरकाई।

ओ चप्पी मारियै बैठी ते सारें पर नगाह् सुट्टीः-
दुआसी, रंज, हास्से, हीखी उसगी बलगदे लब्भे,

ते रींघ बलगने आह्लें दी ही लम्मी ते अन-टुट्टी:
करोड़ा रुलदियां लटकां: करोड़ां हुमकदे जज़्बे।

अऊं मसरूफ हा ते ओदै लाग्गै औन निं होआ, –
(बड़े बारी मी उन्नै सैनतां करियै बुलाया हा।)

बो मुकती देर ओह्दे षा नफिच्चे बौह्न निं होआ ;
ओ चलदी होई ते जन्दे समैं मिक्की गलाया हा ;

”अऊं जन्नीं, मिली औन्नीं, फ्ही बेह्ले लोकें गी उच्चर;
तुहाकी बैह्ल निं होन्दी ”वियोगी“ जीने षा जिच्चर।

Copyright Kvmtrust.Com