Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अनहोनी

एह् डि’रगा जिगरा हा जां ब्हादरी? मिगी निसो चेत्ता।
पता नेईं कोह्के जज़्बे तैह्त, चर्ज, में करी लैत्ता?

में अपनी जिंदगी दे सीतें षा, तंग आइयै, अलबत्ता,
हा पूरे सूरजै गी अपनी मुट्ठै च भरी लैत्ता।

चफेरै गुप्प-न्हेरा छाया, होआ राज पाले दा:
बनी गे बर्फ दे तोदे-फ्ही डिग्गल सारे दे सारे।

अजें तगरा हा देवी-देवतें जिसगी सम्हाले दा:
सृष्टी डगमगाई ते भिरी टुट्टन लगे तारे:-

मिरै अंदर बलन भांबड़, सृष्टी सीतै नै कंबदी,
प एह्दै पैह्लै जे पाले नै डरियै दुनियां एह् संभदी:-

घली ही सूरजै दी गर्मी मूजब बर्फ हत्थें दी –
ते टोली, औंगलें दी बित्थलें चा, झांकी रिष्में दी।

मिगी इस रिष्में दी टोली नै गै बडलै जगाया हा ;
मिरी ठंडै थमां, सृष्टी गी, इसनै गै बचाया हा !

Copyright Kvmtrust.Com