Explore KVMT

All Dogri Sonnets

हेत-हीन तफसील

जिढ़ै थाह्रै जुगें कोला, चन्हाब ऐ बगा करदा:
दुराडे माज़ी च, इस थाह्र सागर दा कनारा हा,

ते हून टिब्बा ‘गौर’ पिंडा दा ऐ जित्थें बे-परदा,
उत्थैं गै अम्बां-रांऽ दी बंदरगाहु दा तुआरा हा।

त्रैवै कींगरे दुर्गा दे, तद नज़रें षा ओझल हे,
अतें कष्मीरै दिया बादिया थाह्रै सरोवर हा।

तदूं इस देसै दे बासी, बिषाल-दिल ते चज्जल हे,
ते एह्दा बच्चा-बच्चा आतम-बिष्वासा दा पात्तर हा।

मगर इक रोज़ धरती नै दना उबड़ा हा साह् कीता:
मजूदा प्हाड़, नदियां ते सरोवर उट्ठी पे उबड़े,

सतैही नैन-नक्षे, बातनी जुस्सा तबाह् कीता,
ते कन्नै धर्तरी दै लोकें दे करदार बी बदले।

तदूं षा डोगरें हा बैष्णो गी पूजना लाया,
ते धीयां जम्मियै उनें गी जींदे दब्बना लाया।

Copyright Kvmtrust.Com