Explore KVMT

All Dogri Sonnets

तारो

में पैह्लो-पैह्ल भोग कीता हा उन्नी सौ ठुंजा च:
(अऊं हा उ’न्नियें साल्लें दा ते ही पैंतियें दी ओह्)

उ’न्नै निंगलियै, मरदानगी मेरी, सकैंटा च,
मिगी हा घाली उड़ेआ, एह् मिगी परमातमा दी सोह्।

ब्याह्ता, बच्चें आह्ली, खर्पदी, सोह्नी जनानी ही,
रंडापे नै, उदे बुआल गी हा खट्टी रक्खे दा।

हिड़ी दी हस्ती ही मेरी, मगर बिलकुल ञ्यानी ही,
सकंजे च, समाजी नीरनें, इस्सी हा कस्से दा।

ओ पैह्ला ते अखीरी मेल हा साढ़ा, मगर यारो,
में ओह्दे घालने मूजब, अजें तक्कर बगा करना,

ते हून नुंजे साल्लें दी बरेसा च, मिगी तारो –
जदूं बी मिलदी ऐ ओह्दा अदा में षुकरिया करना।

म्हिसी नेईं मेरियें यादें चा ओ ‘तारो’ अजें तगरा
ते याद ओह्दी खरपांदी ऐ मीं यारो अजें तगरा।

Copyright Kvmtrust.Com