Verse 41 – राजनीति – Politics

नेता करे एलेक्शनबाज़ी घर घर में जाकर ,
वोट मांगते लोगो से वह कुशल बिखरी बन कर |
पर जब कुर्सी मिल जाए तो भूलें कॉल करार ,
मिलने जायो तो समय न देवे न दफ्तर न घर. ||