Verse 174-कविता -Poem

कहे यदि वह मुझे कि- तेरी कविता है सुन्दर,
पूजूंगा उसको रख अपना माथा पैरों पर।
नहीं थकूंगा लेते उसके गोरे गालों का चुम्बन,
कर-कमलों से पकड़ के उसको ले आऊँगा घर ||