Verse 183-महाकाव्य-Epic

सच्ची कथा नहीं रामायण सुनी थी मैंने ख़बर,
महाभारत भी अफ़्साना है कहते कई चतुर।
झूठी-सच्ची मैं न जानूं सुन्दर बहुत कथा,
इसी लिए चर्चित हैं दोनों आज सभी के घर ||