Explore KVMT

All Dogri Sonnets

नफरत

”एह् नफरत ला-अलाज रोग ऐ-दीरघ बमारी ऐ।“
मिगी गुस्से नै लोक आखदे न, जानदे न ओ,

अलामत इक्क-इक्क एसदी पनछानदे न ओ।
अबो इस मंतकै च इक्क बड्डी आओज़ारी ऐ:

ओ इसगी मेलदे न प्रेमियें दे रोह्-रोस्से नै ;
ते मिक्की तमषियै जुआब तां दिंदे न गुस्से नै।

प लोकें गी पता होंदे होई बी एह् पता हैन्नी,
उनें गी जानकारी एसदी पूरी त’रा हैन्नी:

जे कूईं नफरत जेल्लै आतमा च बेही जंदी ऐ
सुन्हाके इच्छमा दी त्राना गी ढिल्ला करी दिंदी।

बतरनी जेह्ड़े बी सुआतमा च बेही जंदी ऐ,
देआरी हस्तिया दे थ’म्मे गी पुल्ला करी दिंदी।

‘वियोगी’ जान-लेवा ला-अलाज रोग ऐ नफरत,
एह् नफरत, हां एह् नफरत, नफरत दै जोग ऐ नफरत।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com