भुल्ल

बड़े दिनें दा मेरा मन करा करदा हा एह् चेचा,
जे मन्ज़र सूरजा दे चढ़ने दा निहारी आमां में।

सवेरै न्हेरै-न्हेरै उट्ठियै तां कीता में निष्चा, –
त’वी दा अज्ज ते जरूरी चक्कर मारी आमां में।

प बाह्र जंदे बेल्लै, मेरे कोला, भुल्ल एह् होई,
जे नज़र मेरी पेई, सैह्बन गै, तेरे षरीरा पर,

तां मेरी रूहा च फैली गेई तेरी खषबोई,
ते कोई बस्स निं ओल्लै रेहा, मेरा मिरै उप्पर।

में तेरे होठें गी चुम्मी लेआ बतोड़जन होइयै,
मिगी सूरज-उदे निहारने दा निष्चा भुल्ली आ,

ते सारा सत मेरी हस्ती दा, तेरे नै पलमोइयै,
ज्वार-भाटा बनियै तेरी षख्सीयत च डु’ल्ली आ।

ते सूरज दे बिषे च इयै सोची सकनां में एल्लै,
जे सूरज गी उदे होंदे, फिरी दिखगा कुसा बेल्लै।