Explore KVMT

All Dogri Sonnets

माफीनामा

अऊं इनसाफ निं मंगा दा, सिर्फ रैह्म मंगा नां:
में मुजरम आं, में मुलज़म निं, में मूरत आं नमोषी दी।

में अपनी करनियें उप्पर बिजन दरेग पछतान्नां,
मी बख्षी दे, तूं सुन फरेआद, इस बे-ज़ौन दोषी दी।

में हा-हाकार पाई दी ऐ, की हामी निं तूं भरदा?
बजह केह् ऐ तिरी अनटुट्ट ते अट्टल खमोषी दी?

ते की निं, मेरी बक्खी, षारा, तूं जादूगिरा करदा?
मिगी दस्सां, तुगी में सोह् पान्नां, मां संतोषी दी।

न्यायाधीष एं, निर-पक्ख एं ; बिष्वास ऐ पक्का,
मिगी जकीन ऐ, एह् गल्ल निं मजमा-फरोषी दी।

अऊं इन्साफ निं मंगा दा, में आं रैह्मा दी तक्का:
न्याय लोड़दा निरदोष गी ते रैह्म दोषी गी।

अगर, तूं माफ करने दी, मिगी हामी भरी देगा ;
तिरे आपे च, अपने आप गी, आ’मी भरी देगा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com