आह्त औरत-ज़ात

जनानी दी बुरी हालत दा जिम्मेबार सबनी षा,
बधीक धर्म ऐ ; आखा नां एह् में दिक्खी-भालियै।

धर्मा दै जरियै, मरदें म्हेषां अपनी जनानी षा,
हक्क खूसेआ समझी करी जिन्सी खडाली ऐ।

”कम्म मादा दा, नसला दी ऐ बढ़ोतरी करना-“
गलाया मुल्लें, ”लेकन लुतफ लैना हक्क नेईं ओह्दा।

”ओह्दा धर्म ऐ नरै दी ऐंठन पद्धरी करना,
ते एह् करदे लै उसगी बनना पौग, बर्फू दा तोदा।“

बधाने तांईं बक्फा ते तफीक हरमें च काम्मी ;
सुन्नत कीते जंदे बचपने च लिंग जिंदे हे,

जनानियें दे जिन्सी काम बिंदुएं गी ओह् धर्मी,
(यनी के), छोल्लें गी, कुड़ीपने च कप्पी दिंदे हे।

अतीषयोक्ती नेईं, गल्ल एह् सच्ची में आखी ऐ,
लिखत तरीख धर्मा दी इस गल्ला दी साखी ऐ।